अरे जा रे हट नटखट


धागिन  धिनक  धिन
धागिन  धिनक  धिन
धागिन  धिनक  धिन

अटक -अटक  झटपट  पनघट  पर
चटक  मटक  इक  नार  नवेली
गोरी  गोरी  ग्वालन  की  छोरी  चली
चोरी  चोरी  मुख  मोरी  मोरी  मुस्काये  अलबेली
कंकरी  गले  में  मारी  कंकरी  कन्हैया  ने
पकरी  बांह  और  की  अटखेली
भरी  पिचकारी  मारी
सा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा
भोली  पनिहारी  बोली

सा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा
अरे  जा  रे  हट  नटखट
ना  छू  रे  मेरा  घूंघट
पलट  के  दूँगी  आज  तुझे  गाली  रे
अरे  जा  रे  हट  नटखट
ना  छू  रे  मेरा  घूंघट
पलट  के  दूँगी  आज  तुझे  गाली  रे
मुझे  समझो  न  तुम  भोली  भाली  रे

सा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा  रा
आया  होली  का  त्यौहार
उड़े  रंग  की  बौछार
तू  है  नार  नखरेदार  मतवाली  रे
आज  मीठी  लगे  है  तेरी  गाली  रे


हाँ  हाँ  हाँ

हो
तक  तक  ना  मार  पिचकारी  की  धार
हो
तक  तक  ना  मार  पिचकारी  की  धार
कोमल  बदन  सह  सके  ना  ये  मार
तू  है  अनादी  बड़ा  ही  गंवार
कजरे  में  तूने  अबीर  दिया  दार
तेरी  झकझोरी  से  बाज़  आई  होरी  से
चोर  तेरी  चोरी  निराली  रे
मुझे  समझो  न  तुम  भोली  भाली  रे

अरे  जा  रे  हट  नटखट
ना  छू  रे  मेरा  घूंघट
पलट  के  दूँगी  आज  तुझे  गाली  रे
मुझे  समझो  न  तुम  भोली  भाली  रे

हो
धरती  है  लाल  आज  अम्बर  है  लाल
हो
धरती  है  लाल  आज  अम्बर  है  लाल
उड़ने  दे  गोरी  गालों  का  गुलाल
मत  लाज  का  आज  घूंघट  निकाल
दे  दिल  की  धड़कन  पे  धिनक  धिनक  ताल
झांझ  बजे  शंख  बजे
संग  में  मृदंग  बजे
अंग  में  उमंग  खुशियाली  रे
आज  मीठी  लगे  है  तेरी  गाली  रे

अरे  जा  रे  हट  नटखट
ना  छू  रे  मेरा  घूंघट
पलट  के  दूँगी  आज  तुझे  गाली  रे
मुझे  समझो  न  तुम  भोली  भाली  रे

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s